गुरुवार, 22 फ़रवरी 2018

अन्त.मातृभाषा दिवस के अवसर पर जामिया में बहुभाषी कवि गोष्ठी एवं कहानी पाठ

अन्त.मातृभाषा दिवस के अवसर पर जामिया में बहुभाषी कवि गोष्ठी एवं कहानी पाठ




लाल बिहारी लाल
नई दिल्ली। अन्त. मातृभाषा दिवस के अवसर पर जामिया के राजभाषा हिंदी प्रकोष्ठ द्वारा बहुभाषी कवि गोष्ठी एवं कहानी पाठ का आयोजन किया गया जिसकी अध्यक्षता प्रो. हेमलता महिश्वर, अध्यक्ष, हिंदी विभाग ने की। कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि प्रो. गिरिश चंद्र पंत, अध्यक्ष, संस्कृत विभाग रहे। जामिया के विभिन्न विद्यार्थियों, संकाय सदस्यों और प्रशासनिक कर्मचारियों द्वारा हिंदी, संस्कृत, ओड़िया, मलयालम, ब्रजभाषा, छत्तीसगढ़ी, भोजपुरी, उर्दू और अंग्रेजी में रचनाएं प्रस्तुत की गईं। कार्यक्रम के दौरान हिंदी भाषा में जहाँ डॉ. मुकेश कुमार मिरोठा, अपर्णा दीक्षित, आदिल अली, मुकुल सिंह चैहान, अदनान कफ़ील दरवेश ने अपनी कविताएं प्रस्तुत कीं वहीं शुभम पांडे ने हिंदी कहानी सुनाई। डॉ. सरोज महानंदा ने ओड़िया, डॉ. सत्यप्रकाश प्रसाद ने अंग्रेज़ी, शीला प्रकाश ने मलयालम, डॉ. धनंजय मणि त्रिपाठी ने संस्कृत, डॉ. यशपाल ने ब्रजभाषा में अपनी सस्वर कविताओं से सबका मन मोह लिया वहीं सुरैया खातून ने उर्दू गज़ल पेशकर अलग ही समा बाँधा और सना परवीन ने उर्दू कहानी से सबको मंत्रमुग्ध किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहीं हिंदी विभागाध्यक्ष प्रो. हेमलता महिश्वर ने छत्तीसगढ़ की मधुर भाषा छत्तीसगढ़ी में सस्वर गीत प्रस्तुत किए।  
      कार्यक्रम के संयोजक डॉ. राजेश कुमार माँझी, हिंदी अधिकारी ने अपनी भोजपुरी कविताओं और अंग्रेज़ी में अनुदित कविताओं का पाठ किया। डॉ. यशपाल ने कार्यक्रम को बहुत ही कुशलतापूर्वक संचालित किया। कार्यक्रम को आयोजित करने और इसे सफल बनाने में श्री नदीम अख़्तर, हरी नारायण, आदिल अली और वक़ार अहमद की अहम भूमिका रही। श्री इक़बाल अहमद हकीम ने अतिथियों के प्रति धन्यवाद ज्ञापित किया। डॉ. भारत भूषण, रणवीर सिंह, श्रुति मल्होत्रा, फरहा जै़दी, जैब फरहान बानो, रोशन कासिम आदि प्रशासनिक कर्मियों ने भी प्रत्यक्ष व परोक्ष रूप से कार्यक्रम को सफल बनाने में अपना-अपना महत्त्वपूर्ण योगदान दिया। यह कार्यक्रम इसलिए पूरी तरह सफल रहा चूंकि इसमें छात्रों का खासा उत्साह देखने को मिला। कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि प्रो. गिरिश चंद्र पंत, अध्यक्ष, संस्कृत विभाग की सभी प्रतिभागियों को समर्पित संस्कृत की आशु-कविता ने विशेष रोमांचित किया।

मंगलवार, 20 फ़रवरी 2018

लाल बिहारी लाल एवं जेपी दिवेदी सहित कई हस्तियाँ सम्मानित

नई दिल्ली में सर्व भाषा साहित्य उत्सव भव्य रुप से समपन्न

(सर्व भाषा साहित्य उत्सव में लाल बिहारी लाल एवं जेपी दिवेदी सहित कई हस्तियाँ सम्मानित)

सोनू गुप्ता



नई दिल्ली। भाषासाहित्यकला और संस्कृति पर काम करने वाली संस्था सर्व भाषा ट्रस्ट’ द्वारा सर्व भाषा साहित्य उत्सव’ का भव्य आयोजन गांधी शांति प्रतिष्ठान में किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि वयोवृद्ध स्वतंत्रता संग्राम सेनानी मेहता ओ. पी. मोहन और नेशनल ला यूनिवर्सिटी के वरिष्ठ प्रोफेसर डा. प्रसन्नांशु थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता न्यास के अध्यक्ष व वरिष्ठ साहित्यकार डा. अशोक लव ने की। मेहता ओ. पी. मोहन ने सर्व भाषा ट्रस्ट की नीतियों की भूरि-भूरि प्रशंसा करते हुए कहा कि जिस प्रकार भारतीय संस्कृति वसुधैव कुटुंबकम् की अवधारणा पर सबको जोड़ना सिखाती हैउसी प्रकार सर्व भाषा ट्रस्ट’ द्वारा भी कई भाषाओं के तहत सबको जोड़ा ही जा रहा है।
 इस कार्यक्रम का आयोजन तीन सत्र में किया गाया जिसमें  प्रथम सत्र में प्रसिद्ध चित्रकार असगर अली की संस्था कलाभूमि द्वारा चित्र प्रदर्शनी, द्वितीय सत्र में न्यास की त्रैमासिक ई-पत्रिका सर्व भाषा’ के प्रवेशांक का लोकार्पण किया गया। संस्था के सचिव एवं इस पत्रिका के संपादक केशव मोहन ने बताया कि इस पहले अंक में ही 75 रचनाकारों की कुल सत्रह भाषाओं में रचनाएँ प्रकाशित हुई हैं। इसके अलावे 6 अन्य पुस्तकों’ का लोकार्पण किया गया। इसके उपरांत अतिथियों को सम्मानित किया गया। मेहता ओ पी मोहन को राष्ट्र रत्न सम्मान’ से अलंकृत किया गयावही शिाक्षाविद् डा. प्रसन्नांशु फिल्म एक्सपर्ट उदयवीर सिंह सेनापतिवरिष्ठ पत्रकार अशोक चतुर्वेदीश्री प्रदीप गुलाटीजनाब फरहान परवेज़ कवि पत्रकार लाल बिहारी लाल,जे.पी. दिवेदी,सुनिल सिन्हा , श्री जलज कुमार अनुपम, श्री राजकुमार अनुरागी व श्री प्रफुल्ल गोयल सहित अन्य साहित्यकार बंधुओ को सर्व भाषा सम्मान’ से सम्मानित किया गया।
 कार्यक्रम के तीसरे चरण में  काब्य गोष्ठी का आयोजन लोकप्रिय ग़ज़लगो श्री अजय अज्ञात अध्यक्षता में आयोजन किया गया।जिसमें देश के विभिन्न क्षेओत्रं से दर्जनो कवियों ने हिस्सा लिया। अंत में धन्यवाद ज्ञापन के साथ कार्यक्रम का समापन हुआ।


बुधवार, 7 फ़रवरी 2018

भोजपुरी होली गीत-

भांग खाके भउजी पगला गइली

लाल बिहारी लाल

भांग खाके भउइजी पगला गइली
देख देवरे पर अब त लुभा गइली

फागुन के रंग में गइल बारी रंगाई
करे ना असर अब कवनो दवाई
देख लोक लाज सब ई भुला गइली
देख देवरे पर अब.........

पोरे-पोरे रंग में रंगाइल बा देहिया
ससुर भसुर से अब लगावेली नेहिया
देख केतना से नेहिया लगा गइली
देख देवरे पर अब...........

गतर-गतर रंग डलिहे जब सजानवा
तब जाके भरी भउजी के ई मानवा
देवरा लाल बिहारी पर लुभा गइली
देख देवरे पर अब...........

ग्राम +पो.सोनहो बाजार,छपरा

फोन- 07042663073(दिल्ली) 

मंगलवार, 30 जनवरी 2018

भोजपुरी गीत- सांवरिया



 

गीतकार- लाल बिहारी लाल

 

स्त्री स्वर-

 

सांवरिया आ जइतs एक बार

अंखियाँ कब से राह निहारे,नैना तड़से हमार

सांवरिया आ जइतS एक बार....

 

पानी बिन मछरी के जइसे, तड़पी रोज पिया

तोहरे याद मे बेसुध होके, भटकी रोज पिया

दिने-दिन प्यास बढ़त बा ,लागे ना जीया हमार

सांवरिया आ जइतS एक बार....

 

 

भूल भइल का हमसे राजा ,आके दS तू बता

कवना बात केS ऐ तू राजा, देत बारS सजा

प्रीत के रीत में दर–दर भटकी,सुन ल हमरो गुहार

सांवरिया आ जइतS एक बार....

 

आके पूरा जा लाल के लालसा कहेले लाल बिहारी

अब ना अइसे काम चलीS, बुझS तू हमरो लाचारी

तड़प-तड़प दिन रात बीतेला,कब होई मिलन हमार

सांवरिया आ जइतS एक बार....

 


पुरुष स्वर-

तोहरे प्यार में तड़पी धनिया,मानवा बेकरार

बार-बार ई हे हम सोंची. कब होई मिलन हमार

ये धनिया आइब एहS ऐतवार,ये धनिया आइब एहS ऐतवार,

 

सांवरिया आ जइतS एक बार.... सांवरिया आ जइतS एक बार....

 

 

बदरपुर, नई दिल्ली-44

फोन-7042663073

गुरुवार, 4 जनवरी 2018

लेखिका नीलू नीलपरी "एम्पावर्ड वूमेन अवार्ड" से सम्मानित

लेखिका नीलू नीलपरी "एम्पावर्ड वूमेन अवार्ड" से सम्मानित

लाल बिहारी लाल


नई दिल्ली। दिल्ली की लेखिका नीलू नीलपरी को प्रतिमा रक्षा सम्मान समिति करनाल द्वारा "एम्पावर्ड वूमेन अवार्ड" से सम्मानित किया गया। शक्ति पुंज नारी, जो खुद मोमबत्ती सी जलकर भी नारी उत्थान में निरंतर कार्यरत है। नारी जो कैंसर और टीबी को पछाड़, अय्याश पति की शारीरिक-मानसिक प्रताड़ना में तपकर, चक्रव्यूह से निकलकर खुद को ही सशक्त नहीं करती, बल्कि आसपास की लड़कियों, महिलाओं के लिए सशक्तिकरण के मार्ग प्रशस्त करती है। 
 दिल्ली की व्यख्याता, मनोवैज्ञानिक, कवियत्री, लेखिका, संपादिका, समाज सेविका नीलू नीलपरी एक ऐसी ही सशक्त नारी हैं, जिन्हें राष्ट्र स्तरीय "एम्पावर्ड वूमेन अवार्ड" से सम्मानित किया गया गया। छात्रों, बुज़ुर्गों, निम्न वर्ग की महिलाओं की समस्याओं का कॉउंसलिंग से निदान, निर्धन-मेधावी छात्राओं की उच्चशिक्षा/ प्रोफेशनल ट्रेनिंग व ट्रेनिंग के बाद स्वरोजगार के लिए आर्थिक सहायता (बतौर मनोवैज्ञानिक और समाजसेविका), स्त्री विमर्श नाटकों का लेखन-मंचन, कविता, कहानी के माध्यम से समाज का सच्चा दर्पण और समस्याओं का निदान के लिए लगातार प्रयासरत रहती है। पिछले दिनों इनकी कविताओं का एकल  संग्रह "नीले अक्स" आया है औऱ बहुत जल्द लघुकथा संग्रह "नील उजास" आने वाला है। हाल ही नीलू नीलपरी को इनकी समाजिक एंव साहित्यिक उपलब्धियों के लिए इन्हें मुम्बई में 28 दिसम्बर 2017 को "टॉप 50 इंडियन आइकॉन अवार्ड" से भी सम्मानित किया गया है। इन्हें प्रथम शिक्षिका सावित्री बाई फुले जी की जयंती पर राष्ट्रस्तरीय संगठन प्रतिमा रक्षा सम्मान समिति,करनाल के द्वारा अध्यक्ष श्री नरेन्द्र अरोड़ा जी द्वारा एक सम्मान समारोह में  3 जनवरी 2018 को करनाल में सम्मानित किया गया जिसमें देश के विभिन्न राज्यों की चुनिंदा 100 सशक्त नारियों को इस अवॉर्ड से सम्मानित किया गया। आशा है नीलू यूं ही नव वर्ष में भी समाजिक एवं साहित्यिक क्षेत्रों मे अनवरत सक्रिय रहेगी।  


मंगलवार, 2 जनवरी 2018

चित्रकार गब्बर "जनपद गौरव सम्मान" से सम्मानित

चित्रकार गब्बर "जनपद गौरव सम्मान" से सम्मानित

(डीजीपी सूर्य कुमार शुक्ला ने किया चित्रकार गब्बर को सम्मानित)
  
लाल बिहारी लाल

नई दिल्ली । आज कल अपनी कू्ची से कैनवास पर रंग भरके व चावल से विभिन्न प्रकार की कलाकृति बनाकर सबके दिलों पर जगह बनाने वाले चित्रकार को नव वर्ष पर रायवरेली जिले मे आयोजित कार्यक्रम मे विभिन्न क्षेत्र की तमाम हस्तियों सहित सम्मानित किया गया ।  क्षेत्र के चांदा गॉव निवासी चित्रकार गब्बर को जिले मे सदभाव संगम 2018 के तत्वाधान मे आयोजित कार्यक्रम मे "जनपद गौरव सम्मान" से नवाजा गया । यह जनपद गौरव सम्मान उन्हे कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डी.जी.पी होमगार्ड उ.प्र सूर्य कुमार शुक्लाप्रभात रंजनडॉ रहीस सिंहव कार्यक्रम के आयोजक धीरज श्रीवास्तव ने प्रदान किया । सम्मान उन्हे कला के क्षेत्र मे किए जा रहे सराहनीय कार्यों व इतनी कम उम्र मे लिम्का बुक ऑफ रिकार्ड मे नाम दर्ज कराकर जनपद का नाम रोशन करने के लिए दिया गया है ।
-------------
चित्रकार गब्बर ने डीजीपी को भेंट की स्केचजमकर हुई तारिफ
-------------
 कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डीजीपी होमगार्ड उ.प्र सूर्य कुमार शुक्ला को चित्रकार गब्बर सिंह ने अपनी बनाई एक स्केच भेंट की । जिसे देखकर डीजीपी सहित मंच पर उपस्थित लोगों व कार्यक्रम मे आये तमाम लोगों खूब ने मुक्त कंठ से चित्रकार की खूब प्रसंसा की । इसी दौरान ही कार्यक्रम के आयोजक धीरज श्रीवास्तव को भी उनका एक स्केच भी भेंट किया ।

शुक्रवार, 29 दिसंबर 2017

लाल बिहारी लाल“काव्य गौरव”सम्मान से सम्मानित

मोवाइल न्यूज 24 द्वारा लाल बिहारी लाल काव्य-गौरव सम्मान से सम्मानित
– सोनू गुप्ता

नई दिल्ली। पोर्टल न्यूज चैनल मोबाइल न्यूज 24 डाँट काँम (www.mobilenews24.com) द्वारा स्टार न्यूज एजेंसी के दिल्ली ब्यूरो चीफ, लाल कला मंच के सचिव पर्यावरण प्रेमी एवं दिल्ली रत्न लाल बिहारी लाल को नव वर्ष पर आयोजित काव्य पाठ के लिए काव्य-गौरव सम्मान से चैनल के मुख्य संपादक सह निदेशक नीरज नरुका एंव वरिष्ठ साहित्यकार शिव प्रभाकर ओझा द्वारा सम्मानित किया गया। नव वर्ष के शुभ अवसर पर आयोजित इस काव्य पाठ में लाल विहारी लाल सहित गिरिराज शर्मा गिरीश तथा शिव प्रभाकर ओझा ने भी भाग लिया और उन्हें भी काव्य-गौरव सम्मान से वरिष्ठ साहित्यकार एवं पत्रकार लाल बिहारी लाल तथा नीरज नरुका द्वारा सम्मानित किया गय़ा। इस कार्यक्रम का प्रसारण यू ट्यूब एवं मोबाइल न्यूज 24 डाँट काँम पर 31 दिसंबर 2017 को मध्य रात्रि में किया गया।
 लाल बिहारी लाल को इससे पहले भी साहित्य एवं पत्रकारिता के क्षेत्र में उल्लेखनिय योगदान के लिए दर्जनों पुरस्कार मिल चुके हैं। इनकी भोजपुरी कविता क्रांति विहार के दो विश्वविद्यालयों में बी.ए. तथा एम.ए. के पाठ्यक्रम में शामिल है। श्री लाल अभी तक 6 पुस्तको का संपादन भी कर चुके हैं। औऱ इनकी रचनाएँ देश के विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में अवरत प्रकाशित होती रहती है।आशा है लाल नये साल पर भी अपनी लेखन जारी रखेगे।